स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब तक 19370 व्यक्तियों के नमूने लिए गए जिनमे से 18415 नगेटिव पा गए है। इसके अलावा 247 व्यक्तियों को नमूनों के परिणाम आने बाकी है-।कुमार आहूजा.

पंचकूला 31 जुलाई उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब तक 19370 व्यक्तियों के नमूने लिए गए जिनमे से 18415 नगेटिव पाए गए है। इसके अलावा 247 व्यक्तियों को नमूनों के परिणाम आने बाकी है।
उपायुक्त ने बताया कि अब तक जिला में 708 पॉजिटिव मामले आ चुके है इनमे से पंचकूला के 561 तथा 120 बाहर के जिलों व राज्यो से संबंधित है। जिला में 294 एक्टिव मामले है तथा इनमे से 265 रोगी ठीक हो चुके है। उन्होंने बताया कि आज कुल 34 मामले पॉजिटिव आए है इनमे पंचकूला के 29 तथा जीरकपुर, व चण्डीगढ के एक एक तथा तीन दिल्ली सहित 5 बाहर के मामले आये है।
उपायुक्त ने बताया कि पंचकूला में सी आर पी एफ के 1 मामले आए है। इसके साथ ही सैक्टर 8 में 6, सैक्टर 12 ए में एक, सैक्टर 21 में 5 षाहपुर में 6, मंढावाला , धर्मपुर, कालका, विष्वकर्मा कालोनी कालका, सैक्टर 19, सैक्टर 20 व सैक्टर 4 तथा हाउसिंग बोर्ड सैक्टर 19 में एक एक मामला आया है। इसके अलावा सैक्टर 2 में भी दो मामले पोजिटिव पाए गए है।

जरूरतमंदों को मास्क के साथ साबुन, टूथब्रुष बांटे – सीजेएम
पंचकूला 31 जुलाई- जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण की ओर कोरोना महामारी के चलते लाॅक डाउन के दौरान जिला के लोगों को कानूनी जानकारी देने हेतू सैक्टर 5 में कानूनी जागरूकता षिविर का आयोजन कर कार्य करने वाले मजदूरों के साथ साथ गरीब एवं जरूरतमंद लोगों को हैडमेट मास्क, टुथपेस्ट, टूथब्रुष एवं साबुन बांटे।
इस संबध में जानकारी देते हुए मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी एवं सचिव सम्प्रीत कौर ने बताया कि सैक्टर 5 में कार्य करने वाले लोगों को व्यक्तिगत दूरी बनाए रखने एवं बार बार साबुन से हाथ धोने के लिए भी प्रेरित किया गया। इसके अलावा घर से निकलते ही सार्वजनिक स्थलों पर मास्क का प्रयोग करने तथा सार्वजनिक स्थलों पर थूकने पर प्रतिबंध बारे भी जानकारी दी जा रही है। व्यक्तिगत स्तर पर मास्क का प्रयोग करने के लिए जागरूक किया गया। यदि कोई मास्क का उपयोग नहीं करेगा तोे उस पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया जा सकता है।
सचिव ने बताया कि इन शिविरों में लोगों को हरियाणा सरकार द्वारा क्रियान्वित जन कल्याणकारी योजनाओं के बारे में अवगत करवाया जाता है ताकि जरूरतमंद एवं पात्र व्यक्ति इन योजनाओं का लाभ उठा सकें। उन्होंने बताया कि अधिवक्ताओं द्वारा लोगों को मोबाईल सेतू अपलोड करने के लिए भी प्रेरित किया जाता है ओर उसे समय समय अपडेट करने के लिए भी अवगत करवाया जाता है ताकि कोविड की जानकारी उन्हें समय पर मिल सके।
उन्होेंने बताया कि प्राधिकरण की ओर जरूरतमंद लोगों के लिए 0172-2585566 तथा 1800-180-2057 हैल्पलाईन भी 24 घण्टें क्रियान्वित की जा रही है। इन पर कोई भी नागरिक सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी ले सकता है। उन्होंने बताया कि प्राधिकरण की ओर जरूरतमंद्व लोगों के मामलों की पैरवी करने के लिए निशुल्क अधिवक्ताओं की भी नियुक्ति की जाती है।

…………………..
पंचकूला 31 जुलाई. नवीन एवं नवीनीकरण ऊर्जा विभाग की ओर से जिला की गौषालाओं को, संस्थाओं एवं डेयरियों में संस्थागत बायोगैस प्लांट लगाने के लिए 40 प्रतिषत तक अनुदान दिया जा रहा है। इसके लिए इच्छुक संस्थाओं, डेयरियों से शीध्र आवेदन मांगे जा रहे है।

अतिरिक्त उपायुक्त मनिता मलिक ने बताया कि विभाग द्वारा 25 क्यूबिक मीटर का बायोगैस प्लांट लगाने के लिए 70 से 80 पशुओं वाली गौशालाएं, संस्थाएं ओर डेयरियां आवेदन कर सकती है। इसी प्रकार 35 क्यूबिक मीटर के लिए 100 से 110 पशु रखने वाली तथा 45 क्यूबिक मीटर का बायोगैस प्लांट के लिए 125 से 140 पशु रखने वाली गौशालाएं, डेयरियां, एवं संस्थाएं आवेदन कर सकती है। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार 60 मीटर क्यूबिक मीटर का बायोगैस प्लांट 175 से 180 पशु रखने वाली गौशालाएं, संस्थाएं और डेयरियां ही संस्थागत बायोगैस प्लांट के लिए आवेदन कर सकती है। इसी प्रकार 85 मीटर क्यूबिक मीटर के बायोगैस प्लंाट के लिए 250 से 270 पशुओं को रखने वाली संस्थागत बायोगैस प्लांट लगाए जा सकते है। उन्होंने बताया कि गौशालाओं में रखे जाने पशुओं से प्राप्त होने वाले गोबर से बेहतरीन संस्थागत बायोगैस प्लांट लगाए जा सकते है। इसलिए जिला की गौशालाओं, संस्थाओं एवं डेयरियों में संस्थागत बायोगैस प्लांट लगवाने के लिए सरकार की अनुदान योजना का लाभ उठाना चाहिए।
अतिरिक्त उपायुक्त ने बताया कि बायोगैस प्लांट पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचाने में कारगर होते हैं इसके अलावा बायो खेती के लिए भी आर्गेनिक खाद तैयार करने में बायोगैस प्लांट को प्रयोग में लाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि बायोगैस प्लांट बहुत ही लाभकारी होते है। इनसे निकलने वाली गैस का प्रयेाग खाना बनाने के साथ साथ घरेलू बिजली उत्पादन के लिए भी प्रयोग में लाया जा सकता है। बायोगैस प्लांट से निकलने वाली वेस्ट का प्रयोग आर्गेनिक खाद के रूप में खेतों में लाया जा सकता है जिससे जमीन उपजाऊ होने के साथ शुद्व एवं उच्च गुणवता युक्त खाद्यान्न मिलेगा। इस प्रकार गौशालाएं आर्गेनिक खाद की बिक्री करके आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होगी।
…………………..
कंटेनमेंट जोन में आयुर्वेदिक औषधियां बांटने का चलाया जा रहा अभियान- मिश्रा
पंचकूला 31 जुलाई- जिला आयुर्वेद अधिकारी डा.ॅ दिलीप कुमार मिश्रा की अध्यक्षता में आयुष विभाग कंटेंनमेंट जोन में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाने के लिए चलाएय जा रहे विशेष अभियान के तहत कंटनेमंेट जोन में आयुष क्वाथ एवं गुडुची घनवटी का वितरण किया जा रहा है। आयुर्वेदिक औषधियां कारगर साबित हो रही है। इसलिए लोगों को इनका प्रयोग करना चाहिए।
जिला आयुर्वेदिक अधिकारी ने बताया कि वर्तमान में जिला पंचकूला में बढ़ते रोगियों की संख्या को देखते हुए त्वरित गति से आयुष क्वाथ का वितरण करने के लिए टीमों का गठन किया गया है। ये टीमें जिला के कंटेनमेंट क्षेत्रों में विशेषकर बुजुर्गो को आयुष क्वाथ आयुर्वेदिक औषधियों का वितरिण कर रहे है।
जिला आयुर्वेदिक अधिकारी ने बताया कि डा. नमिता घई, निर्मल देवी, प्रदीप, अभिषेक की टीमों ने कनटेंन्मैंट जोन में नागरिकों व नागरिकों को आयुष कवाथ एवं गुडुची घनवटी का वितरण किया गया। नागरिकों एंव वरिष्ठ नागरिकों की रोगों से लडने की क्षमता को बढाने के लिए आयुर्वेदिक काढ़ों व हलदी मिले हुए गोल्डन मिल्क के सेवन करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। इसके अलावा सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने एंव योेगाभ्यास के लिए भी जागरूक किया जा रहा है। इन औषधियों के सेवन से उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायता मिलेगी।
फोटो कैप्शन-2 आयुर्वेदिक औषधियां बांटते हुए चिकित्सा अधिकारी।

Share