स्वामी दयानंद सरस्वती एक बहुमुखी व्यक्तित्व के धनी थे .

पंचकूला, 18 फरवरी- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि महापुरुषों की जयंतियों को शैक्षणिक और अन्य संस्थानों में उनके जीवन और शिक्षाओं पर आधारित विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करके मनाया जाना चाहिए ताकि लोगों में काम करने की भावना उत्पन्न हो सके। उन्होंने कहा कि इस प्रकार हम उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि दे सकते हैं।
श्री मनोहर लाल आज पंचकूला में विधायकों के साथ तीन-दिवसीय पूर्व-बजट परामर्श बैठक 2020-21 के दूसरे दिन स्वामी दयानंद सरस्वती जी की 197वीं जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस अवसर पर हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञान चंद गुप्ता के अतिरिक्त राज्य के मंत्री और विधायक भी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी दयानंद सरस्वती एक बहुमुखी व्यक्तित्व के धनी थे और उन्होंने धर्म, शिक्षा, आध्यात्मिकता और महिला सशक्तीकरण के क्षेत्र में कई पहल की। उन्होंने कहा कि स्वामी दयानंद जी ने देश के स्वतंत्रता संग्राम में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस और वीर सावरकर जैसे कई अन्य महापुरुषों ने भी विभिन्न अवसरों पर अपने भाषणों में लोगों के बीच स्वतंत्रता की लौ जगाने में उनके योगदान को स्वीकार किया है।
उन्होंने कहा कि महापुरुषों का हमारे समाज में एक विशेष महत्व है और समय-समय पर उनकी जयंतियां मनाई जाती हैं ताकि युवा पीढ़ी उनके जीवन से प्रेरणा ले सके। इसी श्रृंखला में, राज्य सरकार द्वारा भी महापुरुषों की जयंतियों को उचित रूप से मनाने के लिए राज्य स्तरीय कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इनमें श्री गुरु रविदास जयंती, महर्षि वाल्मीकि जयंती, कबीर जयंती, श्री गुरु नानक देव जी और दसवें सिख गुरु श्री गुरु गोबिंद सिंह जी का प्रकाशोत्सव प्रमुख हैं।

मुख्यमंत्री ने विभिन्न समुदायों से अपील की कि वे महापुरूषों की जयंतियों को उस दिन उनके जीवन और शिक्षाओं पर आधारित कार्यक्रमों का आयोजन करके मनाएं।
अपने स्वागत भाषण में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव और सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री राजेश खुल्लर ने स्वामी दयानंद सरस्वती जी के उच्च मूल्यों और शिक्षाओं को स्मरण करने उपरांत, विधायकों के साथ बजट-पूर्व परामर्श बैठक 2020-21 के दूसरे दिन की कार्यवाही शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि स्वामी जी ने राजनीतिक और सामाजिक रूप से देश को एक नई दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
श्री खुल्लर ने बजट पूर्व परामर्श बैठक का उल्लेख करते हुए कहा कि यह एक सुखद संयोग है कि राज्य के बजट को अंतिम रूप देने से पहले स्वामी दयानंद सरस्वती जी की 197वीं जयंती पर विधायकों के साथ यह बैठक आयोजित की जा रही है। उन्होंने कहा कि संभवतरू देश की लोकतांत्रिक प्रणाली में यह अपनी तरह की अनूठी पहल है।
इससे पूर्व, इस अवसर पर बोलते हुए आचार्य जयवीर वैदिक ने कहा कि स्वामी दयानंद सरस्वती जी 1857 की क्रांति के दौरान स्वतंत्रता सेनानियों के लिए मुख्य मार्गदर्शकों में से एक थे। उन्होंने कहा कि स्वामी जी ने हमेशा मानवता, वेदों और आपसी सद्भाव के लिए प्रचार किया। समाज में महिलाओं के उत्थान के लिए उनके द्वारा किए गए कार्यों के परिणामस्वरूप ही आज महिलाएं पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रही हैं।

इससे पूर्व गुरुकुल, कुरुक्षेत्र के श्री जयपाल आर्य और श्री जगत वर्मा ने स्वामी दयानंद सरस्वती जी के जीवन और शिक्षाओं पर आधारित धार्मिक भजन प्रस्तुत किए।

पचकूला,18 फरवरी- जिला रोजगार विभाग में वेबसाईट ीतमगण्हवअण्पद पर पंजीकृत सभी प्रार्थियों को रोजगार विभाग की वेबसाईट पर अपना आधार कार्ड 24 फरवरी तक सत्यापित करवाना अनिवार्य होगा। तभी वे विभाग की योजनाओं का लाभ ले सकेंगे।
जिला रोजगार अधिकारी ममता बूरा ने बताया कि आधार कार्ड सत्यापित करवाने के लिए अपने संबंधित रोजगार कार्यालय में अपना रोजगार रजिस्टेªशन कार्ड व आधार कार्ड की मूल प्रति लेकर किसी भी कार्य दिवस पर रोजगार कार्यालय में सुबह 9 बजे से सांय 5 बजे तक संपर्क कर सकते हैं। आधार कार्ड पोर्टल पर अपलोड करना बिल्कुल निःशुल्क हैं।

कोरोना वायरस से लडने मे भी मदद कर रही हैं श्हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविकाश् मिशन से जुडी महिलाएं।।
पचकूला,18 फरवरी- हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन का मुख्य उदेश्य गरीबी को कम करना है। इस काम में ना केवल स्वयं सहायता समुह से जुडी हुई महिलाएं गरीबी से जंग लड रही है अपितु अपने पैरो पर खडा होने की भी कोशिश कर रही हैं और इस कोशिश के रंग भी नजर आने लग गए हैं।
इसके साथ ही स्वयं सहायता समुह की ये महिलाएं पडोसी देश चीन में फैले कोेरोना वायरय से लडने में भी मदद कर रही हैं । इस काम के लिए ग्राम बख्शीवाला की स्वयं सहायता समुह की महिलाओं को 10 लाख मास्क बनाने का आॅर्डर मिला है। जिसे पूरा करने के लिए पूरे इलाके की करीब 30 स्वयं सहायता समुह की महिलाए इस कार्य के लिए दिन.रात लगी हुई हंै।
अतिरिक्त उपायुक्त मनिता मलिक ने बताया कि महिलाओं का ये प्रयास ना केवल इन्हे आर्थिक मजबूती देगा अपितु आजीविका के नए रास्ते भी खोल रहा है। पंचकूला जिले के स्वयं सहायता समुह इस कार्य मे तत्परता से लगे हुए है।
फोटो- 3 से 4

पंचकूला, 18 फरवरी- हरियाणा खादी व ग्रामोद्योग बोर्ड के निर्देशन एवं प्रबन्धन गार्गी कक्कड़ के अध्यक्षता में केन्द्रीय विद्यालय नं0 2 चण्डीमदिंर कैन्ट के नौंवी व दसवीं कक्षा के लगभग 15 छात्र एवं छात्राओं ने अपने विद्यालय के पी.जी.टी. कैमिस्ट्री अघ्यापक श्री बी.एन. लक्की के नेतृत्व में अन्य दो लाईबे्ररियन के साथ हर खादी आऊटलैट को देखने एवं खादी के बारे में जानकारी प्राप्त की।
बोर्ड के कर्मचारियों द्वारा उनको खादी के उत्पादन, प्रयोग एवं लाभ के बारे में बताया तथा बच्चे एवं अध्यापिकाओं को गांधी जी का पारम्परिक चरखा एवं अम्बर चरखा दिखाया। खादी एवं ग्रामोद्योग के उत्पादों को बनाने व इस्तेमाल के बारे में विस्तार पूर्वक बताया तथा ‘हर खादी‘ आउटलेट पर बिकने वाले समस्त खादी एवं ग्रामोद्योग के उत्पादों को प्रदर्शित किया। बच्चे एवं अध्यापिकाओं ने ये सभी चीजें देखने एवं उनके बारे में जानने की बड़ी उत्सुकता दिखाई। खादी बोर्ड के कर्मचारियों ने सभी बच्चों एवं अध्यापिकाओं को गांधी जी के चरखे की स्टेनलैस स्टील से बनी, पंचकूला के सैक्टर- 2, 5, 1 व 6 के चैंक पर स्थापित प्रतिकृति भी दिखाई।

Share