4 जनवरी से स्वच्छ सर्वेंक्षण-2018 की शुरूआत की जाएगी-जोगपाल

पंचकूला, 3 नवंबर- नगर-निगम आयुक्त राजेश जोगपाल ने कहा कि 4 जनवरी से स्वच्छ सर्वेंक्षण-2018 की शुरूआत की जाएगी ताकि पंचकूला शहर को स्मार्ट सिटी बनाकर देश का पहला शहर घोषित करवाया जा सके।
राजेश जोगपाल आज नगर निगम द्वारा रेड बिशप में आयोजित स्टेक हॉल्डर वर्कशॉप को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पंचकूला शहरी क्षेत्र को साफ सुथरा बनाने के लिए हम सबको महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी तभी हम स्मार्ट सिटी बनाने में अच्छी रेंकिंग पर पंहुच सकेंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए हम सबका कत्र्तव्य है कि ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन कर उसका सही ढंग से उपयोग कर सके। उन्होंने कहा कि पार्क सोसायटी, शिक्षण संस्थान, रेस्टोरेंट, ओद्यौगिक एसोसिएशन, रेजीडेंस वेलफेयर एसोसिएशन, गौशाला प्रबंधन के अलावा सीआरपी, आर्मी एवं आईटीबी कांप्लैक्स से निकलने वाले कचरे का प्रबंधन वे स्वयं अपने स्तर पर किस प्रकार कर सकते है। उन्होंने कहा कि ये सभी संस्थान कचरे का प्रबंधन अपने संस्थान में कंपोस्टिंग करें।
उन्होंने कहा कि घरों से निकलने वाले कचरे को अलग-अलग करें। इसके लिए नगर निगम का प्रयास है कि इसके लिए 80 ई लोडर रेहड़ी की व्यवस्था की जाएगी। इसके लिए एक दो दिन में टेंडर लगाए जाएंगे। इसके साथ साथ बड़े साईज के डस्टबिन भी लोगों को उपलब्ध करवाएं जाएंगे। इससे तुरंत कचरा उठाने की सुविधा प्राप्त होगी। उन्होंने कहा कि कंस्ट्रक्शन के दौरान निकलने वाले ठोस कचरे का उचित प्रबंध करना होगा तभी हम शहर को साफ सुथरा बना सकते है। इसके लिए लोगों में जागरूकता जरूरी है। जागरूकता के लिए वॉल पेंटिंग, ब्राइडिंग के अलावा होर्डिंग व बैनर लगाकर लोगों को जागरूक किया जाएगा ताकि उनके दृष्टिकोण को बदला जा सके। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग लोगों के दृष्टिकोण बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते है। वे बच्चों को जागरूक कर उनके दिलों में अभी से साफ सफाई के विचार डाल सकते है। उन्होंने कहा कि धार्मिंक स्थलों से बचे खाने, स्वास्थ्य विभाग के बायोमैडिकल वेस्ट, गऊशाला से गोबर, मार्केंट से निकलने वाले कचरे का एसोसिएशन किस प्रकार प्रबंध कर उसका प्रयोग का सकती है और इसके लिए सभी शहरवासियों को सहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ सर्वेंक्षण 2018 में 1400 नंबर का होगा, जिसमें 750 नंबर वेस्ट कोलैक्शन एवं ट्रांस्पोर्ट के, 420 ओडीएफ के होंगे। इसके अलावा 70-70 नंबर कंपेनिंग व एनोवेशन के होंगे। इसके अलावा एचएमटी, भारत इलैक्ट्रोनिम लिमिटिड व अन्य उद्योगों के मालिकों को भी अपने स्तर पर उनके उद्योगों से निकलने वाले कचरे का प्रबंधन कर वे इस मुहिम में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते है।
इस अवसर पर पार्षद सीबी गोयल, श्रीमाता मनसा देवी पूजा स्थल बोर्ड के कार्यकारी अधिकारी वीजी गोयल, जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के वरिष्ठ पैनल एडवोकेट मनबीर राठी व अन्य लोगों ने भी अपने-अपने सुझाव दिए। कार्यशाला में नगर निगम की मेयर उपिंदर कौर आहलुवालिया, सीनियर डिप्टी मेयर एसएस नंदा, डिप्टी मेयर सुनील तलवार, पार्षद सलीम खान, नगर निगम के कार्यकारी अधिकारी ओपी सिहाग सहित काफी संख्या में स्टेक होल्डर्स भी उपस्थित थे।

Share