कवि महार्षि वाल्मिकी जैसे महापुरुषों ने सैंकड़ों वर्षों पूर्व देश व समाज को उन्नत बनाने के लिए जातिवाद से उपर उठ कर एक सूत्र में पिरोने की शिक्षा दी-मनोहर लाल

पंचकूला, 5 अक्तूबर- हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि आदि कवि महार्षि वाल्मिकी जैसे महापुरुषों ने सैंकड़ों वर्षों पूर्व देश व समाज को उन्नत बनाने के लिए जातिवाद से उपर उठ कर एक सूत्र में पिरोने की शिक्षा दी थी और युवा पीढी को उनके प्रशस्त मार्ग का अनुसरण करना चाहिए तभी हम देश की एकता व अखंडता को सुदृढ कर सकते हैं।
मुख्यमंत्री आज महार्षि वाल्मिकी की जयंती क अवसर पर सेक्टर 12ए स्थित वाल्मिकी भवन में हरियाणा अनुसूचित जातियां एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग व जिला प्रशासन पंचकूला के सहयोग से आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। म्म्मुख्यमंत्री ने महार्षि वाल्मिकी जयंती व शरद पूर्णिमा की प्रदेश के लोगों को बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा कि पहली बार महार्षि वाल्मिकी जयंती सभी जिलों में 3 अक्तूबर से 10 अक्तूबर तक सरकारी स्तर पर मनाई जा रही है। इससे पूर्व संत कबीरदास, रविदास व भीमराव अंबेडकर जंयतीयां भी राजकीय स्तर पर मनाई गई थी, जो सामाजिक समरस्ता व भाईचारे का संदेश देती है। मुख्यमंत्री ने उपस्थित लोगों से सरकार द्वारा अनुसूचित जातियों वे पिछड़ा वर्ग के कल्याण के लिए चलाई जा रही स्कीमों का लाभ उठाने का आहवान किया चाहे वह मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना हो, छात्रवृत्ति योजना हो या प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 2022 तक सभी को मकान देने की योजना हो। इन योजनाओं के प्रति लोगों को जागरुक करना हम सबकी जुम्मेवारी है।
मुख्यमंत्री ने सेक्टर 12ए के चौंक का नाम महार्षि वाल्मिकी चौंक रखने, अनुसूचित जाति, विमुक्त जाति, टपरीवास जाति के गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों को उनकी लडक़ी की शादी पर दी जाने वाली 41 हजार की वित्तीय सहायता की वार्षिक आय सीमा एक लाख रूपए से बढा कर ढाई लाख करने, सभी वर्गों की विध्वाओं, तलाकशुदा, निराश्रित महिलाओं की लड़कियों की शादी पर दी जाने वाली 51 हजार की वित्तीय सहायता की वार्षि आय सीमा भी एक लाख रूपए से बढा कर ढाई लाख करने की घोषणा की। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने अपने स्वैच्छिक कोटे से वाल्मिकी भवन के लिए 11 लाख रूपए देने की घोषणा भी की। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने भवन में स्थाई रूप से महार्षि वाल्मिकी की प्रतिमा स्थापित करने का सुझाव दिया।
इस अवसर पर हरियाणा वाल्मिकी महासभा के अध्यक्ष व पूर्व मंत्री राजकुमार वाल्मिकी ने अपने संबोधन में समारोह में पहुचंने के लिए मुख्यमंत्री व अन्य विशिष्ट अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य सफाई कर्मचारी आयोग का गठन कर मुख्यमंत्री ने सही मायनों में इस वर्ग की समस्याओं के समाधान का कार्य किया है, इसके लिए हरियाणा वाल्मिकी महासभा उनका विशेष रूप से आभारी है।
अनुसूचित जाति व पिछड़ा वर्ग विभाग के प्रधान सचिव अनिल कुमार ने अपने संबोधन में विभाग द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की विस्तार से जानकारी दी।
इस अवसर पर सांसद रतन लाल कटारिया, जिला परिषद की अध्यक्षा रितु सिंगला, भाजपा जिला प्रधान दीपक शर्मा,सेवानिवृत आईएएस एमएल सारवान, उपायुक्त गौरी पराशर जोशी, डीसीपी मनवीर सिंह, नगर निगम के आयुक्त राजेश जोगपाल, अतिरिक्त उपायुक्त मुकुल कुमार, एसडीएम पंकज सेतिया, नगराधीश ममता शर्मा, नगर निगम के उप महापोर सुनील तलवार, पार्षद सीबी गोयल, सहित जिला प्रशासन, पंचकूला जिला वाल्मिकी सभा के अध्यक्ष कर्ण सिंह व वाल्मिकी सभा के अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

Share