महिला कांग्रेस ने प्रदुमन को दी श्रद्धांजलि, घायल पत्रकारों से मिले

चंडीगढ़ 12 सितंबर
हरियाणा प्रदेश महिला कांग्रेस की प्रधान सुमित्रा चौहान, प्रदेश प्रभारी नीतू वर्मा एवं वरिष्ठ उपप्रधान रंजीता मेहता ने मंगलवार को गुडग़ांव में मृतक छात्र प्रदुमन को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की और परिवार को भरोसा दिया कि पूरी कांग्रेस उनके साथ इस दुख की घड़ी में साथ है। साथ ही पुलिस की लाठीचार्ज में घायल पत्रकारों से भी मुलाकात की। सुमित्रा चौहान और नीतू वर्मा ने कहा कि 7 वर्ष के प्रद्दुमन ठाकुर की रायन इंटरनेशनल में हुई जघन्य हत्या ने पूरे देश की आत्मा को दहला दिया है। विशेष तौर से गुडगांव हरियाणा में और आम तौर से निजी और सरकारी स्कूलों में देश के भविष्य यानि देश के बच्चों की सुरक्षा को लेकर ना केवल उनके अभिभावक यानि माता-पिता चिंतित है, परंतु देश का हर जागरुक नागरिक आज बच्चों पर किए जा रहे हमले, चाहें मानसिक हों या शारीरिक तौर से उन्हें चोट या हत्या की साजिश हो जो बार-बार हो रहे हैं, उसको लेकर चिंतित है।
सुमित्रा चौहान और रंजीता मेहता ने कहा कि रायन इंटरनेशनल स्कूल गुडगांव में जिनकी मैनजमेंट भारतीय जनता पार्टी की महिला मौर्चा की एक पदाधिकारी भी हैं, उन पर जिस प्रकार से भाजपा की हरियाणा सरकार ने कार्यवाही करने की बजाए ढुलमुल रवैया अपनाया और उल्टा विरोध कर रहे बच्चों के माता-पिता और प्रैस के साथियों पर लाठिय़ाँ भांजी उनको सडक़ पर डाल कर आम अपराधियों से भी बूरी तरह से मारा और पिटा, ये भाजपा और खासतौर से हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर की नाकामी को दर्शाता है। रायन इंटरनेशनल स्कूल के बारे में कई चौंकाने वाले तथ्य और प्रद्दुमन ठाकुर की हत्या के बारे में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने हैं। पहला स्कूल के स्टाफ के पास आईडिंटी कार्ड भी नहीं था, दूसरा स्कूल का सीसीटीवी कैमरा काम भी नहीं कर रहे थे, जिससे अपराधी की पहचान भी नहीं हो पाई, तीसरा स्कूल में विजिलेंस अधिकारी, सुरक्षा के जुम्मेवार अधिकारी तथा स्कूल के मैनजमेंट कोताही के लिए सीधे-सीधे जिम्मेवार हैं। अगर ऐसा ना होता तो प्रद्दुमन ठाकुर की जान ना जाती। 7 साल के अबोध बच्चे का 3 बार गला, एक तेज हथियारे से रेता गया या काटा गया परंतु किसी व्यक्ति को स्कूल के अंदर पता नहीं चला ये कैसे हो सकता है? पाँचवा प्रद्दुमन ठाकुर के पिता 15 मिनट पहले बच्चे को स्कूल में छोड़ते हैं और 15 मिनट के अंदर बच्चे की हत्या होकर वापस उन्हें सूचना भी मिल जाती है और परंतु सभी अनभिज्ञ हैं कि ये हत्या किसने की, कैसे हुई और किस कारण से हुई, ये स्कूल की मैनजमेंट की नालायकी, निक्कमेपन और कहीं ना कहीं एक साजिश की ओर इशारा करता है। स्कूल की चारदिवारी, पीछे से टूटी पाई गई और वहाँ शराब की बोतलें आज भी पड़ी हैं। ये दर्शाता है कि ऑफ टाईम या ऑन टाईम किस प्रकार से रायन इंटरनेशनल स्कूल में का गैर सामाजिक तत्वों के द्वारा दुरुपयोग किया जा रहा था और बच्चों की सुरक्षा को लेकर कैसे कोताही बरती जा रही थी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर एक बार फिर कानून व्यवस्था पर ना नियंत्रण कर पाने के लिए अब देश में एक चिन्ह बन गए हैं उन्होंने सरेआम ये कह दिया कि वे कोई सीबीआई जांच इस मामले में ऑर्डर नहीं करेंगे और ना ही रायन इंटरनेशनल स्कूल के खिलाफ कार्यवाही करेंगे और जब अभिभावकों ने कल विरोध किया तो अभिभावकों और किस निर्दयता और निर्ममता से मारा गया इस मंजर को पूरे देश ने देखा।

Share