भाजपा नेताओं से वसूली जाए डेरे को दिए गए अनुदान की रकम: योगेश्वर शर्मा

पंचकूला,9 सितंबर। आम आदमी पार्टी ने हरियाणा के तीन मंत्रियों व केंद्र के एक मंत्री पर सरकारी धन को अपने वोट बैंक के लिए इस्तेमाल करने का आरोप लगाते हुए उन पर कारवाई किए जाने की मांग की है। पार्टी का कहना है कि दुराचार के आरोप में जेल गये गुरमीत सिंह को यह जानते हुए भी कि वह दुरचार एवं हत्याओं के मामलों में आरोपी है और अदालत में उस पर मामले चल रहे हैं,बावजूद इसके भाजपा के इन नेताओं ने सरकारी खजाने से उसके डेरे को धन दिया। जोकि अपने पद व सरकारी खजाने का सीधा सीध दुरपयोग है। इन सबके खिलाफ न केवल कानूनी कारवाई होनी चाहिए बल्कि इन सबसे वह रुपया वसूला जाना चाहिए।
आप के जिला प्रधान योगेश्वर शर्मा ने आज यहां जारी एक ब्यान में कहा कि पूर्व केंद्रीय खेल मंत्री विजय गोयल ने 31 लाख रुपये ,हरियाणा के खेल मंत्री अनिल विज ने 51 लाख रुपये, शिक्षा मंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा ने 50 लाख रुपये तथा सहकारिता राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर ने 11 लाख रुपये डेरे को अनुदान में दिए। ये रकम उस समय दी गई जबकि बाबा अदालत में अपने आपराधिक मामलों की तरीखों के चलते एक आरोपी था। उन्होंने इन नेताओं से यह जानना चाहा है कि उन्होंने गुरमीत सिंह के आलावा इतने ऐसे और कितने डेरे हैं जहां इस तरह का अनुदान इतनी बड़ी रकम के रुप में दिया है। इसके आलावा उन्होंने यह भी जानना चाहा है कि गुरमीत सिंह के डेरे को छोडक़र उन्होंने और इतनी कितनी ऐसी सामाजिक अथवा धार्मिक संस्थाएं हैं जिन्हें इतनी बड़ी रकम आज तक अनुदान में दी हो। उन्होंने खेल मंत्री अनिल विज द्वारा एक टीवी चैनल को दिए साक्षात्कार में अपनी ओर से तथा अन्य मंत्रियों की ओर से दिए गए अनुदान को सही ठहराने पर तंज कसते हुए कहा कि यदि बाबा के प्रति उनका इतना ही प्रेम है तो वे ये रकम अपनी ओर से निजी तौर पर देते। प्रदेश की जनता की ओर से दिए गए टैक्स से भरे गए खजाने को लुटाने का हक उन्हें किसने दिया है। उन्होंने कहा कि वह आगे भी डेरे पर जाना चाहे तो बेशक जाएं जैसा कि वह कह रहे हैं,मगर सरकारी खजाने से लुटाये गये 50 लाख रुपये की रकम अगर डेरे के खाते में जा चुकी है तो उसे खजाने में दोबारा जमा करवायें। उन्होंने कहा कि प्रदेश के शिक्षामंत्री और खेल मंत्री अपने किए पर शर्मिंदा होने की बजाये और अपनी गल्ती मानते हुए जनता से इसके लिए माफी मांगने की बजाये उस पर फर्ख कर रहे हैं। उन्होंने खेल मंत्री अनिल विज से पूछा है कि डेरे की हकीकत सामने आने के बाद भी क्या वह डेरे पर जाने के अपने ब्यान पर कायम हैं। क्येंाकि डेरे से न केवल सरकारी एवं भक्तों के धन से बाबा की अययाशी का साजो सम्मान मिला है, बल्कि बारुद की खेप और अवैध रुप से पटाखे तैयार करने की फैक्टरी भी मिली है। उन्होंने कहा कि आप इस मामले को लेकर राज्यपाल से शिकायत करेंगी और इन मंत्रियों से गुरमीत ङ्क्षसह को दिए गए अनुदान की इनसे भरपायी करने की मांग करेगी।

Share