प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार पर्यावरण संतुलन बनाने के लिए प्रतिबद्ध है

पंचकूला, 3 जून- केंद्रीय पर्यावरण,वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार पर्यावरण संतुलन बनाने के लिए प्रतिबद्ध है ,इसके लिए सरकार दुनियाभर से तकनीकी व वित्तिय सहायता जुटाएगी।
वे आज पंचकुला जिला के पिंजौर क्षेत्र में वन एवं वन्य प्राणी विभाग द्वारा गिद्ध संरक्षण प्रजनन केंद्र में आयोजित कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। इससे पूर्व उन्होंने हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के साथ पौधारोपण भी किया और गिद्ध संरक्षण प्रजनन केंद्र से दो गिद्धों (हिमालयन ग्रीफोनस) को स्वच्छंद किया। इन गिद्धों की पहचान के लिए उनको टैग लगाए गए और पैरों में छल्ला लगाया गया।
श्री जावडेकर ने कहा कि भारत में आज वन क्षेत्र मात्र 20 प्रतिशत बचा है जबकि सरकार ने इसको 33 प्रतिशत तक करने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने बताया कि लोगों को वनों की खेती करने तथा दूसरी फसलों के साथ खेत की मेड़ पर पेड़ लगाने के लिए भी किसानों को प्रेरित किया जाएगा। उन्होंने आज यहां से मध्यप्रदेश के लिए वहां के वन्य अधिकारियों को 10 गिद्ध भी सौंपे। इस अवसर पर एक गिद्ध का नाम जोध सिंह रखा गया।
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने बतौर मुख्य अतिथि अपने संबोधन में कहा कि पर्यावरण की स्वच्छता में गिद्ध प्रजाति का अहम योगदान है इसलिए राज्य व केंद्र सरकार गिद्ध के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए प्रयासरत है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मानव की गलतियों के कारण आज वन्य प्राणियों की कई प्रजातियां लुप्त होने के कगार पर हैं जिसके कारण प्राकृतिक असंतुलन पैदा हो गया है। उन्होंने बताया कि गिद्धों की संख्या देश से करीब 95 प्रतिशत लुप्त हो चुकी है। इनकी संख्या को बढ़ाने के लिए आज जंगल के खुले वातावरण में छोड़ा जा रहा है। गिद्ध प्राय: मृत जानवरों के शरीर को अपने भोजन के रूप में लेता है जिससे वातावरण से गंदगी साफ होती है। उन्होंने बताया कि करीब 15 साल पहले पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में गिद्ध की संख्या बढ़ाने की दिशा में कोशिश की गई थी जिसके सकारात्मक परिणाम आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि देश में गिद्ध के संरक्षण एवं संवर्धन में ‘मुंबई नेचुरल हिस्ट्री सोसायटी’ भी सहयोग कर रही है।
उन्होंने प्रकृति को बचाने का आह्वान करते हुए कहा कि राज्य सरकार शिवालिक और अरावली क्षेत्र में भी वन संरक्षण एवं प्रकृति संरक्षण के लिए प्रयासरत है। उन्होंने यह भी बताया कि मोरनी क्षेत्र में 500 एकड़ में हर्बल पार्क बनाया जाएगा।
इस अवसर पर वन एवं वन्य प्राणी मंत्री राव नरबीर सिंह के अलावा विधायक ज्ञानचंद गुप्ता,विधायक श्रीमती लतिका शर्मा, वन एवं वन्य प्राणी विभाग के प्रधान सचिव श्री अमित झा,वन विभाग की चीफ कंजर्वेटर श्रीमती अमरिंदर कौर, उपायुक्त डॉ० गरिमा मित्तल, उपायुक्त पुलिस अम्बाला पुलिस आयुक्त आरके मिश्रा, पुलिस उपायुक्त अनिल धवन, भाजपा के जिला प्रधान दीपक शर्मा, जिला परिषद की चेयरमैन रितु सिंगला, महामंत्री वरिंदर राणा, संजीव कौशल, विजय कालिया के अलावा वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Share