बरवाला खंड के गांव पारवाला में ग्रामीणों को खुले में शौच न जाने व शौचालय निर्माण करवाने के लिए प्रेरित

बरवाला, रायपुररानी (पंचकूला) 11 मई- उपायुक्त डा. गरिमा मित्तल ने कहा कि कहने को तो हम 21वीं सदी में जी रहे हैं, लेकिन खुले में शौच जाने की आज भी सदियों पुरानी प्रवृति है। हमें खुले में शौच जाने से होने वाली समस्याओं जैसे खतरनाक बीमारियां, आत्मसम्मान को खतरा, पैसे की बर्बादी के बारे में जानकारी है, लेकिन फिर भी हम अपनी सोच में परिवर्तन नहीं ला रहे। अब समय आ गया है कि इस सदियों पुरानी प्रवृति को छोडक़र अपने घरों में शौचालय बनवाएं तथा उनका उपयोग करें।
उपायुक्त बुधवार को बरवाला खंड के गांव पारवाला में ग्रामीणों को खुले में शौच न जाने व शौचालय निर्माण करवाने के लिए प्रेरित कर रही थी। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि उनका गांव जिला के अन्य गांवों से शौचालय निर्माण के कार्य में पिछड़ रहा है, जोकि गांव के लिए अच्छी बात नहीं है। ग्रामीणों व ग्राम पंचायत के पास अब भी समय है कि स्वच्छता अभियान में अन्य गांवों से पिछड़ रहे अपने गांव को आगे लाएं तथा सभी घरों में जल्द शौचालय बनवाएं। उन्होंने अतिरिक्त उपायुक्त हेमा शर्मा को निर्देश दिए कि अगर यह गांव सप्ताहभर में शौचालय निर्माण में अगर तेजी लाता है तो यहां पर मनरेगा व आईएवाई योजना के लाभपात्रों को तुरंत लाभ दिया जाए। इसके बाद उपायुक्त रायपुररानी खंड के गांव रामपुुर ठडयों में पहुंची तथा ग्रामीणों व ग्राम पंचायत को स्वच्छता अभियान में पिछडऩे व गांव में शौचालयों का निर्माण धीमी रफ्तार से करवाने बारे सवाल किए। उन्होंने कहा कि अब जिला पंचकूला खुले में शौच मुक्त होने की कगार पर है। इस अच्छे कार्य में सभी जिलावासी व ग्रामीण सहयोग दें तथा अपने घरों में जल्द शौचालयों का निर्माण करवाएं, ताकि यह प्रदेश का पहला खुले में शौचमुक्त जिला बन पाए।
अतिरिक्त उपायुक्त हेमा शर्मा ने कहा कि वे स्वच्छता अभियान के तहत जिला के सभी गांवों में दौरा कर रही हैं, इसके अलावा जिला प्रशासन के अलग-अलग विभागों के अधिकारी भी गांवों में पहुंच रहे है। इस अभियान के तहत ग्रामीणों में जोश है तथा कई गांवों ने अच्छा कार्य करते हुए अपने गांवों को खुले में शौच मुक्त भी बना दिया है। अब जो गांव किन्हीं कारणों से पिछड़ रहे हैं, उन्हें चिंतन कर शौचालय निर्माण के कार्य में तेजी लाएं तथा अपने पड़ोसी गांवों से पीछे न रहें। अगर किसी ग्रामीण को शौचालय निर्माण में कोई दिक्कत या राजमिस्त्री नहीीं मिलते तो इसकी सूचना संबंधित खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी के कार्यालय में दें, ताकि उस व्यक्ति को तुरंत राजमिस्त्री मुहैया करवाया जाए।
गांव पारवाला के सरपंच रकम सिंह, पंचों व ग्रामवासियों ने उपायुक्त डा. गरिमा मितल को आश्वासन दिया कि उनके गांव के सभी लोग जल्द ही शौचालयों का निर्माण करवा लेंगे। ऐसा ही आश्वासन रामपुर ठडयों के सरपंच कमलजीत, पंचों व ग्रामीणों ने दिया। इस अवसर पर खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी बरवाला विशाल पराशर, जनस्वास्थ्य विभाग के एसडीओ, गांव की नोडल अधिकारी प्रिंसिपल वीना कांगर, मोटिवेटर गुरदेव सिंह, तरसेम नंबरदार, पंचायत सचिव अब्दुल खालिद व काफी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

Share