जिले के छह पोल्ट्री फार्म को फार्म से संबंधित गतिविधियों पर तुरंत रोक लगाने के आदेश जारी.

पंचकूला, 28 अप्रैल- पर्यावरण विभाग हरियाणा द्वारा पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम 1986 की धारा 5 के तहत जिला में विभाग की हिदायातोनुसार अपने पोल्ट्री फार्म में प्रबंध न किए जाने के कारण जिले के छह पोल्ट्री फार्म को फार्म से संबंधित गतिविधियों पर तुरंत रोक लगाने के आदेश जारी किए है।
पर्यावरण विभाग के प्रधान सचिव अनुराग रस्तोगी ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में जिला के पोल्ट्री फार्म एसोसिएशन की बैठकों में एसोसिएशन को आदेश दिए गए थे कि वे मक्ियों की समस्या को गंभीरता से लें और अपने फार्मों में विभाग की हिदायातोनुसार कार्य करें ताकि मक्ियों की समस्या का समाधान हो सके, लेकिन बार-बार कहने के फलस्वरूप इस दिशा में पोल्ट्री फार्मर्स की ओर से कोई ध्यान नहीं दिया गया। जिला प्रशासन द्वारा गठित टीमों द्वारा पोल्ट्री फार्मों की जांच की गई और जांच के दौरान पाया गया कि पोल्ट्री फार्म मालिक विभाग की हिदायातों की अनुपालना नहीं कर रहे तथा सरकार की ओर से निर्धारित गाइडलाइन की अनदेखी की गई है।
आदेशों में मैसर्स जय मां अंबे पोल्ट्री फार्म गांव अलीपुर कामी रोड बरवाला, मैसर्स यूनाइटेड पोल्ट्री फार्म नग्गल, मैसर्स शर्मा पोल्ट्री फार्म गांव भरैली, मैसर्स अंकुर पोल्ट्री फार्म गांव जलौली, मैसर्स सुप्रीम पोल्ट्री फार्म गांव मौली, मैसर्स पोपुलर पोल्ट्री फार्म गांव बतौड़ को बंद किया गया है और इन्हें 15 दिन के अंदर मुर्गियों को बेचने व किसी अन्य जगह पर स्थानांतरण करने के आदेश दिए गए है। इन आदेशों की अवहेलना करने पर पशुपालन एवं डेरी विभाग के उपनिदेशक द्वारा इन पोल्ट्री फार्म को जब्त कर लिया जाएगा तथा उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम को बिजली की सप्लाई बंद करने के आदेश जारी किए है।

Share