बिजली के बढ़े हुए दाम तुरंत वापिस लिए जाने की मांग

पंचकूला, 11 फरवरी ()। इनैलो के विधायक रामचन्द्र कम्बोज ने बिजली के बढ़े हुए दाम तुरंत वापिस लिए जाने की मांग करते हुए कहा कि सरकार पूरी तरह से हठधर्मी अपनाए हुए है और प्रदेश के लोगों की जायज मांगें स्वीकार करने व उन्हें राहत देने की बजाय अपने असंवैधानिक व अलोकतांत्रिक फैसलों को लागू करने पर तुली हुई है। यह बात बीरवार को बिजली बोर्ड मुख्यालय शक्ति भवन के समक्ष रानियां हलके के कार्यकत्र्ताओं के धरने में कहीं। इस मौके पर कुलभुषण गोयल ने भी संबोधित किया।
विधायक रामचन्द्र कम्बोज ने सम्बोधित करते हुए ने कहा कि आज पूरे देश में हरियाणा के बिजली दाम शायद सबसे ज्यादा हैं और उसके बावजूद सरकार लोगों को गुमराह करने के लिए सिर्फ बिजली के बेसिक रेट बताकर भ्रमित करने का प्रयास कर रही है और बिजली की दर पर लगाए जाने वाले एफएसए और अन्य दरों का लोगों के सामने उल्लेख तक भी नहीं कर रही जबकि लोगों को भारी भरकम बिलों ने परेशान कर रखा है। पूर्व विधायक व जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने संबोधित करते हुए कहा कि जब तक सरकार बिजली की कीमतें वापिस नही लेगी क्योंकि आज भाजपा सरकार ने किसानों को बिलों में भारी वृद्धि करके आर्थिक नुकसान दिया है। उन्होंने कहा कि आज भाजपा सरकार के गलत फैसलों की जनता शिकार हो रही है, जिन वायदों के दम पर भाजपा सत्ता में आई थी, उन वायदों से दूरी बनाए हुए है। आज महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ के रख दी, लेकिन केन्द्र और राज्य सरकार का महंगाई पर कोई नियंत्रण नही है। उन्होंने कहा कि जब किसान की धान मंडी में पहुंची थी तब तो 1500 के करीब खरीद की और जब वो ही बासमती धान पूंजीपतियों के पास पहुंची तो उसकी कीमत 3000 रूपये कर दी। जो सीधे तौर पर किसान से लूट है, सरकार की ऐसी नीतियों से लगता है कि सरकार प्रदेश की जनता के हित के लिए काम न करके पूंजीपतियों को भारी फायदा पहुंचाने की नीयत से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार की कथनी और करनी में भारी अंतर है और सरकार लोगों से जो वायदे करके सत्ता में आई थी आज उन वायदों के विपरीत काम कर रही है।
फोटो कैप्शन:- रानियां हलका के कार्यकत्र्ता बिजली कीमतों को लेकर धरना देते हुए ()

Share