पठानकोट: गांव में मिले संदिग्धों के पैरों के निशान

पठानकोट:Jan-6(Rakesh Thakur)
पठानकोट हमले की जांच करने वाली एजेंसियों को एक गांव में पुरुषों के पैरों के निशान मिले हैं. अहम बात यह है कि पैरों के निशान दो सैट में हैं.जांच एजेंसियों को इस बात की खबर पुलिस ने दी. बामियाल गांव के किनारे पैदल चलने वालों के पुल के पास पुरुषों के पैरों के निशान मिले. सबसे पहले ये निशान एक रिटायर्ड फौजी ने देखे और आतंकवादी के होने के संदेह में इस बात की सूचना फौरन पुलिस को दी.सूचना मिलते ही पंजाब पुलिस की टीम फौरन मौके पर पहुंच गई. और पैरों के निशान को सांचे में उतार लिया. बाद में पुलिस ने पठानकोट हमले की जांच कर रही एनआईए को पैरों के निशान वाले सांचे सबूत के तौर पर सौंप दिए. जिनका मिलान मारे गए आतंकवादियों के जूतों से किया जाएगा.सूत्रों के मुताबिक खुफिया एजेंसियों को शक है कि पाकिस्तानी आतंकियों ने जो हथियार इस्तेमाल किए वे ड्रग कंसाइनमेंट को तौर पर भारत में आए थे. उसके बाद आतंकी अलग से आए. उन्होंने भारत आने के लिए उसी रास्ते का इस्तेमाल किया, जिस रास्ते से देश में ड्रग्स की तस्करी की जाती है.इस मामले में कई अधिकारी भी जांच के घेरे में हैं. सूत्रों के मुताबिक गुरदासपुर एसपी सलविंदर सिंह से भी एनआईए पूछताछ कर चुकी है. सलविंदर को आतंकियों ने 31 दिसंबर को उनके दोस्त और कुक के साथ अगवा कर लिया था और उसके बाद उन्हें छोड़ दिया था. दूसरी एजेंसियां भी सलविंदर और उनके दोस्त राजेश वर्मा और कुक से पूछताछ करेंगी.

Share